Sunday , August 9 2020

Rahat Indori shayari in hindi [Top 50+] | Rahat indori famous Greetings

Shayari ke shokheen Dr.Rahat Indori ko nhi jante ho aesa ho nhi sakta.Ish Generation ke Mashoor Shayar Rahat Indori Ko Unki Romantic Or Dard bhari shayari ke liye Jana jaata he.

Ish Article Me hum apko Dikhayenge Rahat Indori ki shayariya jese:-Rahat indori famous Shayari , Rahat indori Shayari in Hindi , Rahat indori romantic shayari ,2 line shayari or ishke sath bhut kuch.

Rahat Indori Famous Shayari

अब ना(Na) मैं हूँ, ना बाकी(baaki) हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों(Sheharo) में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो(toh) नए ज़ख्म(zakm) भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त(dost) पुराने मेरे।

Ab na mainn hoonn,! Na baakee hain Zamaane mere​,
Phir bhee Mashhoor hainn shehron meinn Fasaane mere​,
Zindageee hai to nnae zakhm bhee lag jaenge​,
Ab bhee baakee hainn kaee dost puraane mere.

लू भी चलती थी तो बादे(bade)-शबा(Shaba) कहते थे,
पांव फैलाये अंधेरो(Andhera) को दिया कहते थे,
उनका अंजाम(Anjam) तुझे याद नही है शायद,
और भी लोग थे जो खुद(Khud) को खुदा(Khuda) कहते थे।

-: Also Read :-

>Do you Know Best Good morning quotes in hindi For Wish?

>Best Whatsapp Love Status [50+] | Whatsapp Dp Shayari

Loo bhee Chaltee thee to baade-shaba kahate the,
Paaonv Phailaaye Andhero ko diya kahate the,
Unka Anjaam tujhe yaad nahee hai shaayad,
Aur bhee log the jo khud ko khuda kahate the.

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर(Shehar) से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते(Lutate) जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर(Padhdhar) हमें पहचानता है,
उम्र(Umra) गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।

Rahat-Indori

Haathh khaalee hainn tere shaharr se jaate jaate,
Jaan hotee to meree jaann lutaate jaate,
Ab to har haathh ka patthar hamenn pahachaanataa hai,
Umar Zuzaree hai tere shahar mein aate Jaate.

चेहरों के लिए आईने(Aaine) कुर्बान किये हैं,
इस शौक(Shok) में अपने बड़े नुकसान किये हैं,​
महफ़िल(Mehfil) में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​,
जिस शख्स(Shaksh) पर मैंने बड़े एहसान किये है।

Cheharonn ke lie aaeene kurbaann kiye hain,
Ish shaukk mein apane bade nukasaann kiye hainn,​
Mehfil mein mujhe gaaliyaan dekarr hai bahut khushh​,
Jis Shakhsh par mainne bade Ehasaann kiye Hai.

​तेरी हर बात ​मोहब्बत में गँवारा(Ganbara) करके​,
​दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा(Khasara) करके​,
​मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर(Bhnbar) है जिसकी​,​​
​तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा(Kinara) करके।

Teree harr baat ​Mohabbattt mein ganvaara karake​,
Dil ke baazaarr meinn baithe hainn khasaara karake​,
Mainn Vo dariya hoonn ki har boondh bhanvar hai jisakee​,​​
Tumne achchha hee kiya mujhasee kinaara karake.

आँख में पानी रखो होंटों(Hothon) पे चिंगारी रखो,
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें(Tarkeebain) बहुत सारी रखो,
एक ही नदी(Nadi) के हैं ये दो किनारे दोस्तो,
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी(Yaari) रखो।

Aankhh meinn paanee rakho hontonn pe chingaaree rakho,
Zinda rahana hai to tarakeebenn bahut saaree rakho,
Ek hee nadeee Ke Hainn ye Do kinaare Dosto,
Dostaana Zindagee se maut se yaaree Rakhoo.

अजीब लोग हैं मेरी तलाश(Talash) में मुझको,
वहाँ पर ढूंढ(Dhoondh) रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं,
मैं आईनों से तो मायूस(Mayush) लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं(Hasee) हूँ मैं।

Ajeeb Log hainn Meree talaashh meinn Mujhako,
Vahaan parr Dhoondhh rahe hain jahaan nahin hoon main,
Mainn Aaeenonn se to maayoos laut aaya tha,
Magarr kisee ne bataaya bahut haseen hoonn mainn.

अजनबी ख़्वाहिशें(Khuayish) सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे(Parindain) कि उड़ा भी न सकूँ,
फूँक(Foonkh) डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त(Khat) तो नहीं है कि जला भी न सकूँ।

Rahat-indori-romantic-shayari

Ajanabee khvaahishenn seene meinn daba bhee na sakoonn,
Aisee Ziddee hainn parinde ki uda bhee na sakoonn,
Phoonk daaloonga kisee roz mainn dil kee duniya,
Ye tera khatt to nahinn hai ki jala bhee na sakoonn.

रोज़ तारों को नुमाइश(Numaish) में ख़लल पड़ता है,
चाँद पागल है अँधेरे(Andhera) में निकल पड़ता है,
रोज़ पत्थर की हिमायत(Himayat) में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों(Sheeshon) से कोई काम निकल पड़ता है।

Roz taaronn ko numaishh meinn khalal padata hai,
Chaand paagall hai andhere meinn nikall padata hai,
Roz pattharr kee himaayatt mein gazal likhate hainn,
Roz sheeshonn se koee kaam nikall padata hai.

उसे अब की वफाओं(wafaon) से गुज़र जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मूझको अपने घर जानें(Jaanain) की जल्दी थी,
मैं आखिर कौन सा मौसम(Mausam) तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम गुज़र(Gujar) जाने की जल्दी थी।

Use ab ke Vafaonn se gujarr jaane kee jaldee thee,
Magar is baarr mujhh ko apane ghar jaane kee jaldee thee,
Mainn aakhir kaun sa mausamm tumhaare naam kar deta,
Yahaan har ek mausammm ko gujar jaane kee jaldee thee.

✓Two Line Shayari✓

“उसने जिस ताख पर कुछ टूटे(Tute) दिए रखे है”,
“चाँद तारो को भी ले जाके(Jaake) वही रख दो” |

मैंने अपनी खुश्क(Khushk) आँखों से लहू(Lahu)8 छलका दिया,
इक समंदर(Samundar) कह रहा था मुझको पानी चाहिए।

Mainne apanee khushkk aankhonnn se lahoo chhalaka diya,
Ik samandarr kah raha tha mujhako paanee chaahiee.

बहुत गुरूर(Guroor) है दरिया(Dariya) को अपने होने पर,
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ(Dhajjiyan) उड़ जाएँ।

Rahat-indori-romantic-shayari

Bahut Guroorr hai dariya ko Apane hone parr,
Jo meree pyaass se ulajhe to dhajjiyaan ud Jaenn.

आते जाते हैं कई रंग(Rang) मेरे चेहरे पर,
लोग लेते हैं मजा ज़िक्र(Zikra) तुम्हारा कर के।

Aaate jaate hainn kaee rang meree chehare par,
Log lete hainn majaa zikra tumhaara kar ke.

अफवा थी कि मेरी तबियत(Tabiyat) ख़राब है” ,
लोगो ने पूछ-पूछ कर बीमार(Bimaar) कर दिया” |

Aphava thee ki meree tabiyatt kharaabb hai” ,
logo ne poochhh-poochhh kar beemaar karr diya” |

चांद हर छत पर है, सूरज(Suraj) है हर आंगन में”,
नींद से जागो तो कुछ ख्वाब(Khwab) दिखाएंगे तुम्हें” |

Chaand har chhatt par hai,
soorajj hai har aangann mein”,
Neendd se jaago to kuchhh khvaab dikhaenge tumhenn

“आज शिहिदे मसनद है कल(Kal) नहीं होंगे” ,
“किरायेदार है जाती मकान (Makaan)नही होंगे“|

“Aaj shihide masanadd hai kal nahin hongee ,
“kiraayedaarr hai jaatee makaann nahee hongee.

“हमारे मुह(Muh) से जो निकले(Nikle) वही सदाकत है” ,
“हमरे मुह में तुम्ही जबान(Jabaan) थोड़ी है” |

Rahat-indori-romantic-shayari

Hamaare muhh se jo nikale vahee sadaakatt hai” ,
“hamare muhh mein tumhee jabaann thodee hai” |

बुलाती है मगर(Magar) जाने का नईं
वो गर्दन नापता(Napta) है नाप ले,
मगर जालिम से डर(Dar) जाने का नईं.

Bulaatee hai magarr jaane ka naeenn
Vo gardann naapata hai naap le,
magarr jaalimm se dar jaane ka naeennn

✓Rahat indori Shayari in hindi✓

| | “मेरे जज़्बे(jajbe) को मेरे(Mere) साथ ही मर जाना है” | |

” हम अपनी जान के दुश्मन(Dushman) को अपनी जान कहते हैं “,
मोहब्बत की इसी मिट्टी(Mitti) को हिन्दुस्तान कहते हैं” |

” जो दुनिया में सुनाई दे उसे कहते हैं खामोशी(Khamoshi)”,
जो आंखों में दिखाई दे उसे तूफान(Tuphan) कहते हैं”||

Rahat-indori-Shayari-in-Hindi

पसीने बाँटता फिरता है हर तरफ़(Taraf) सूरज,
कभी जो हाथ लगा तो निचोड़(Nichor) दूँगा उसे” |
मज़ा चखा(Chakha) के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को,
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़(Chor) दूँगा उसे |

अगर खिलाफ है होने दो जान(Jaan) थोड़ी है,
ये सब धुँआ(Duan) है कोई आसमान थोड़ी है “|
लगे की आग तो आएंगे(Aayenge) घर कई जद्मे में,
यहाँ सिर्फ हमारा मकान(Makaan) थोड़ी है”|

-: Also Read :-

> Best Heart Touch Shayari In Hindi | Heart Touching Shayari For Gf

>Best Romantic Shayari For Wife In Hindi | [50+ Collections]

चलते फिरते हुए महताब(Mehtaab) दिखाएंगे तुम्हें “,
हमसे मिलना कभी, पंजाब(Punjab) दिखाएंगे तुम्हें” |
पूछते क्या हो कि रुमाल(Rumaal) के पीछे क्या है”,
फिर किसी रोज ये सैलाब(Selaaob) दिखाएंगे तुम्हें”||

” कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़(Jhinjhor) दूँगा उसे ” ,
“जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़(Zhor) दूँगा उसे” |

“मुझे वो छोड़ गया ये कमाल(Kamal) है उस का” ,
इरादा मैं ने किया था कि छोड़(Chor) दूँगा उसे”

“बदन चुरा के वो चलता है मुझ से शीशा(Sheesha)-बदन” ,
उसे ये डर है कि मैं तोड़(Todh) फोड़(Fodh) दूँगा उसे” |

2-line-shayari

“मेरे हुजरे(Huzre) में नहीं और कही पर रख दो” ,
“आसमा लाये हो ले आओ जमी(Zameen) पर रख दो” |

“अब कहा ढूढने(Dhoondhne) जावोगे हमारे कातिल” ,
“आप तो क़त्ल का इल्जाम(iljam) हमी पर रख दो” |

“हम से पहले भी मुसाफ़िर(Musafir) कई गुज़रे होंगे,”कम से कम राह के पत्थर(Padhar) तो हटाते जाते ” |

“मिलना चाहा है इंसा(Insan)को जब भी इंसा से” ,
“तो सारे काम सियासत(Shiyashat) बिगाड़ देती है”|
“हमारे पीर तकीमीर(Takimeer) ने कहा था कभी” ,
“मिया ये आशिकी इज्जत(Izzat) बिगाड़ देती है”|

“मै जानता हूँ कि दुश्मन(Dushman) भी कम नहीं है” ,
“लेकिन हमारी तरह हथेली(Hatheli) पे जान थोड़ी है”|
“सभी का खून सामिल(Samil) इस मिट्टी में” ,
“किसे के बाप(Baap) का हिन्दुस्तान थोड़ी है” |

“कसती तेरा नसीब(Naseeb) चमकदार कर दिया” ,
“इस पार के थपेड़ो(Thapedho) ने उस पार कर दिया”
“दो गज सही मगर(Magar) ये मिलिकियत तो है” ,
“ऐ मौत तूने मुझे जमीदार(Zamindar) कर दिया “|

Rahat indori romantic shayari

बुलाती(Bulati) है मगर जाने का नईं,
ये दुनिया है इधर(idhar) जाने का नईं
मेरे बेटे किसी से इश्क़(Ishk) कर,
मगर हद से गुजर(Gujar) जाने का नईं

Bulaatee hai magarr jaane ka naeenn,
Ye duniya hai idharr jaane ka naeenn,
Meere bete kisee se ishq kar,
Magarr had se gujarr jaane ka naeenn.

Also Read:- Easy way to Create a Website Step By Step: Beginners Guide 2020

सितारें नोच(Noch) कर ले जाऊँगा,
मैं खाली हाथ(Hath) घर जाने का नईं
वबा फैली(Phaili) हुई है हर तरफ,
अभी माहौल(Maahol) मर जाने का नईं

Sitaarenn nochh karr le jaoongaa,
Mainn khaalee haathh ghar jaane ka naeenn,
Vabha phailee huee hai harr taraphh,
Abhee maahaull marr jaane ka naeenn

2-line-shayari

हाथ खाली हैं तेरे शहर(Shehar) से जाते-जाते,
जान होती तो मेरी जान(Jaan) लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर(Padhdhar)हमें पहचानता है,
उम्र गुजरी है तेरे शहर(Shehar) में आते जाते।

Haathh khaalee hainn tere shaharr se jaate-jaate,
Jaan hotee to meree jaann lutaate jaate,
Ab to harr haath ka pattharr hamenn pahachaanata hai,
Uumrr gujaree hai tere shaharr mein aate jaate.

“सुबह की नई(Nayi) हवाओं कि सोभत बिगाड़ देती है”,
“कबूतरों को खुली छत(Chatt) बिगाड़ देती है” |
“जो जुर्म(Jurm) करते है वह इतने बुरे नहीं होते” ,
“सजा न देके अदालत(Adalat) बिगाड़ देती है” |

Subahh kee naee havaonn ki sobhat bigaad detee hai”,
Kabootaron ko khulee chhatt bigaad detee hai”
Jo jurmm karate hai vah itane bure nahinn hote” ,
Saja na deke adaalatt bigaadd detee hai.

-: Also Read :-

>[Best] 25 Marriage Anniversary Shayari In Hindi For Couples

>Best Hindi Bf Shayari [100+ Top Collection’s]

>Love Status In Hindi For Gf [50+ Top Collection’s]

आँख में पानी रखो होंटों(Hothon) पे चिंगारी रखो,
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें(Tarkeebain) बहुत सारी रखो,
एक ही नदी(Nadi) के हैं ये दो किनारे दोस्तो,
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी(Yaari) रखो।

Aankh meinn paanee rakhoo hontonn pe chingaaree rakhoo,
Zinda rahana hai to tarakeebennn bahut saaree rakhoo,
Ek hee nadee Ke Hainnn yee Do kinaaree Dosto,
Dostaana Zindageee se mautt se yaaree Rakhoo.

✓Final Conclusion✓

Mene Puri koshish ki he ki Apko apki manpasand Rahat indori ji ki Shayari Mil sake.Me Aasha krta hun Ki apko Hamara Yeh post Acha lga hoga.Agar Han Toh Ishee Share Karein Sukriya.

About Lovely Poet

Howdy, dear visitors, myself Vivek Singh founder and CEO of this website. I and my team are dedicated to delivering you the best Shayari, Quotes, and Status of your choice.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *